Second Generation Of Computer In Hindi || दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर की पूरी जानकारी जाने हिन्दी में -2023

हैलो दोस्तों तो आज हम आपलोगो को इस आर्टिक्ल पोस्ट के माध्यम से बताने वाला हूँ Second Generation Of Computer In Hindi (दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर की पूरी जानकारी हिन्दी में ) तो आप इस आर्टिक्ल को लास्ट तक जरूर देखे और इसे पढ़ें ताकि आप सही से समझ सकों तो चलिए बिना समय को बर्बाद किए इस आर्टिक्ल को आगे ले चलते हैं | :-

 

Second Generation Of Computer

 

दोस्तों तो चलिए इस आर्टिक्ल के माध्यम से हम कुछ बिस्तार में समझते हैं जैसे दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर (Second Generation Of Computer) दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर के उदाहरण (Examples Of Second Generation Of Computer) दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर के कुछ विशेषताएँ ( Features Of Second Generation Of Computer ) और उसके कुछ फायदे और नुकसान क्या थे ( Advantage And Disadvantage Of Second Generation Of Computer )  तो चलिए बिना टाइम को बर्बाद किए इसे आगे ले चलते हैं और इसे बिस्तार में समझते हैं |

 

Second Generation Of Computer(दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर)

 

दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर की सुरूआत सन 1956 में हुआ था और ये 1964 तक रहा जिसे ( Second Generation Of Computer ) के नाम से जानते हैं और ये पहली पीढ़ी के कम्प्युटर से काफी अच्छा हो गया था Second Generation Of Computer में प्रोसेसर के रूप में वैक्यूम ट्यूब को हटा के उसकी जगह Transistor का उपयोग किया जाता था |

इसकी खास बात ये थी की पहली पीढ़ी में जो वैक्यूम ट्यूब का यूज किया जाता था उसे हटा दिया गया क्यूकी उसे रखने में बहोत परेसानी होती थी और अब इसे हटा के Transistor का उपयोग होने लगा था जिसके कारण इसका आकार बहोत कम हो गया और इसका साइज बहोत कम हो गया पहली पीढ़ी के कम्प्युटर से जो बहोत सुंदर हो गया था पहले से छोटा भी हो गया था |

Transistor का आविष्कार 1947 के दिसम्बर के महीने में किया गया था और इसे बेल लैब्स में किया गया था इस आविष्कार को William Shockley , John Bardeen , और Walter Brattain के द्वारा किया गया था वैक्यूम ट्यूब से बहोत ज्यादा अच्छा था क्यूकी इसका साइज बहोत ज्यादा था और अभी बहोत कम हो चुका था |

Transistor के आविष्कार से पहले वैक्यूम ट्यूब का इस्तेमाल किया जाता था ये भी एक Transistor की तरह ही काम करता था लेकिन इसके लिए एक रूम की जरूरत पड़ती थी वैक्यूम ट्यूब बहोत जल्दी खराब भी हो जाती थी और इसे यूज करने से इलेक्ट्रोनिक डिवाइस का साइज भी कम नहीं हो पाती थी |

Transistor , वैक्यूम ट्यूब से काफी सस्ते हुआ करते थे और इसका साइज भी काफी कम हो गया था हालांकि अभी के कम्प्युटर से बरा होता था लेकिन पहली पीढ़ी यानि वैक्यूम ट्यूब से काफी छोटा हुआ करता था और ये Reliable भी थे और उससे काफी तेज काम भी करता था |

दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर में असेंबली लैंग्वेज और हाइ लेवल की लैंग्वेज का इस्तेमाल किया जाता था और इसमे Batch Programming ऑपरेटिंग सिस्टम का परयोग किया गया था जो पहली पीढ़ी से बहोत ज्यादा अच्छा हो गया था |

 

Second Generation Of Computer

 

Examples Of Second Generation Of Computer(दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर के उदाहरण)

 

दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर के कुछ उदाहरण जो निम्न प्रकार से है | :-

  • UNIVAC – 1108
  • IBM – 7094 
  • IBM – 1620
  • CDC – 3600
  • CDC – 1604
  • HONEYWELL – 400

 

Features Of Second Generation Of Computer(दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर के कुछ विशेषताएँ)

 

दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर के कुछ विशेषताएँ जो इस प्रकार से है :-

  • दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर में वैक्यूम ट्यूब की जगह ट्रांजिस्टर का उपयोग सर्किट में होने लगा |
  • दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर में सबसे खास बात ये हो गयी थी की उसका साइज पहली पीढ़ी के हिसाब से बहोत कम हो गया था जिसके कारण ये काफी अच्छा हो गया था और इसमे वैक्यूम ट्यूब को हटा के ट्रांजिस्टर का उपयोग होने लगा था |
  • अगर इसकी Cost की बात करें तो इसका Cost पहली पीढ़ी से काफी कम कर दिया गया था क्यूकी पहली पीढ़ी के कम्प्युटर में वैक्यूम ट्यूब का उपयोग होता था और ये बहोत खराब भी होता था इसलिए उसका Cost बहोत ज्यादा था |
  • इसकी स्पीड की बात करें तो इसका स्पीड में भी काफी सुधार हुआ पहली पीढ़ी के कम्प्युटर से इसका तेज काफी अच्छा हो गया था |
  • इन कम्प्युटरों में Input और Output के लिए Punch Card का उपयोग होता था |
  • दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर में Storage डिवाइस के रूप में Magnetic Tape And Magnetic Disk का उपयोग Secondary Storage डिवाइस के रूप में किया जाता था |
  • इस पीढ़ी के कम्प्युटर पहली पीढ़ी से ज्यादा Reliable विश्वसनीय थे इसका कारण ये था की इसमे ट्रांजिस्टर का उपयोग होने लगा था ये वैक्यूम ट्यूब से बहोत ज्यादा चलता था |
  • इसमे बिजली कम लेती थी और ये उतना गरम भी नहीं होता था जितना पहली पीढ़ी के कम्प्युटर में होता था |

 

Second Generation Of Computer

 

Advantage Of Second Generation Of Computer(दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर के फायदे)

 

दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर के कुछ फायदे जो इस प्रकार से है :-

  • इस पीढ़ी के कम्प्युटर में वैक्यूम ट्यूब को हटा के Transistor का उपयोग होता था
  • दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर पहली पीढ़ी के हिसाब से इसका साइज काफी छोटा हो गया था क्यूकी इसमे वैक्यूम ट्यूब की जगह ट्रांजिस्टर का उपयोग होने लगा था |
  • दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर में काम करने की स्पीड काफी अच्छा हो गया था पहली पीढ़ी के कम्प्युटर से इसमे डाटा को Microseconds में कैलकुलेट कर लेता था जो पहले से काफी अच्छा था |
  • पहली पीढ़ी के मुकाबले दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर को मेंटेन करना काफी आसान हो गया था क्यूकी ये पहले से बहोत छोटा हो गया था |
  • पहली पीढ़ी के तुलना में इस पीढ़ी का दाम में भी बहोत गिरावट हो गया था और ये पहली पीढ़ी से सस्ते हो गए थे |
  • दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर Reliable विश्वसनीय होते थे और इसकी Accuracy भी पहले से अधिक था |
  • दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर उतना हीट नहीं होता था क्यूकी इसमे Transistor का उपयोग होने लगा था |
  • इस पीढ़ी के कम्प्युटर में बिजली भी काम खपत होती थी क्यूकी इसका आकार बहोत छोटा हो गया था |
  • दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर को रखने के लिए कम जगह की आवस्यकता पड़ती थी |

 

Disadvantage Of Second Generation Of Computer(दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर के नुकसान)

 

दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर के कुछ नुकसान भी था जो इस प्रकार से है :-

  • पहली पीढ़ी के तुलना में इन कम्प्युटरों के लिए भी AC (Air Conditioner) की जरूरत पड़ती थी कूलिंग के लिए
  • इसमे असेंबली लेगवेज का इस्तेमाल किया गया था और इसमे कोई ऑपरेटिंग सिस्टम नहीं था
  • ये आज की तुलना में अभी तक के कम्प्युटरो में सबसे अधिक महंगे थे
  • इनमे पंच कार्ड का उपयोग इनपुट और आउटपुट के लिए किया जाता था |
  • इन्हे रखने के लिए निरंतरण रखरखाव कीअवश्यकता होती थी
  • दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटरो का उपयोग केवल एक Specific Purpose के लिए किया जाता था

 

इसे भी पढ़ें :-

 

 

आज आपने क्या जाना :-

दोस्तो तो आज आपने जाना दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर (Second Generation Of Computer) दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर के उदाहरण (Examples Of Second Generation Of Computer) दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर के कुछ विशेषताएँ ( Features Of Second Generation Of Computer ) और उसके कुछ फायदे और नुकसान क्या थे ( Advantage And Disadvantage Of Second Generation Of Computer )

 

Conclusion :-

 

दोस्तो आशा करता हु की आज के इस आर्टिकल को पढ़ने के बाद आपको सेकण्ड जेनरेशन कम्प्युटर (Second Generation Of Computer ) से संबन्धित सभी जानकारी प्राप्त हो गई होगी |

अगर अभी भी आपको दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर (Second Generation Of Computer )के बारे में कोई भी सवाल या डाउट जो आपके मन मे हो वो आप हमसे कमेंट के जरिये पूछ सकते हैं

दोस्तो अगर आपको ये पोस्ट पसंद आया हो तो इस पोस्ट को अपने सभी प्रिए मित्रग्ण को शेयर करना ताकि उनको भी आपकी तरह दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर की जानकारी हो धनबाद ||

ऐसे ही नए Technology से रिलेटेड जानकारी प्राप्त करने के लिए हमारे इस वैबसाइट को फॉलो कर लीजिये या आप किसी अन्य सोशल मीडिया जैसे Facebook, Instagram पे भी फॉलो कर सकतें हैं

फॉलो करें :-

Facebook 

Instagram 

 

इस लेख को पढ़ने के लिए धन्यबाद ||

3 thoughts on “Second Generation Of Computer In Hindi || दूसरी पीढ़ी के कम्प्युटर की पूरी जानकारी जाने हिन्दी में -2023”

Leave a comment